रविवार, 10 अगस्त 2008

आपने कुछ नहीं कहा [दलित/स्त्री]

आपने कुछ नहीं कहा !
शायद आप कुछ नहीं कहना चाहते होंगे , या किसी अधिक जरुरी काम में फस गए होंगे ।
अब तो फुर्सत हो गई होगी , आइए, कुछ कठिन मुद्दों पर बात करें ।

" सत्य [आदर्श] और तथ्य [वास्तविकता] के द्वंद्व से साहित्य प्रभृत वैचारिक कलाओं का प्रादुर्भाव होता है। मेरा व्यक्ति-मन जब वास्तविकता से असंतुष्ट होता है , इसलिए असहमत होता है -फलतः इसकी प्रतिक्रिया में मेरा व्यक्ति-मन अनंत सिसृक्षाओं से भर जाता है। इस कोटि की प्रतिक्रिया , सहज प्रतिक्रिया न होकर विशिष्ट होती है।
यही सर्जना-विशिष्ट-प्रतिक्रिया 'कला' होती है। "

इससे असहमत होना मैं युक्ति-संगत नहीं मानता कि कला प्रतिक्रिया है , तथापि प्रतिक्रियाओं की एकाधिक सरनियां मानी जा सकती हैं - सहज और नियोजित । नियोजित प्रतिक्रिया भी स्पष्ट रूप से दो विरोधी श्रेणियों की होती हैं- सर्जनात्मक और विध्वंसात्मक
विध्वंसात्मक नियोजित प्रतिक्रिया ही आतंकवाद सरीखे मानव-विरोधी क्रिया-कलापों की जड़ है । इन प्रतिक्रियाओं की उद्भावना अहंकारी व्यक्तियों के दिशा-निर्देश में हुआ करता होगा । अंहकार के साथ सर्जना की यात्रा नहीं की जा सकती है ।
सर्जनात्मक प्रतिक्रिया , जो यदि बची रह जाती है तो साहित्य हो जाती है , का पहला बिन्दु है अंहकार का विसर्जन।
प्रसंगवश, मैं कुछ निवेदन करना चाहता हूँ -
अभी हमारी हिन्दी-दुनिया में कुछ नई पौध , षोडशी-जैसी आत्म-मुग्ध , पनपी हैं , अत्यधिक आकर्षक उन पौधों का नाम है-
स्त्रीवाद और दलितवाद ।
इन पौधों की भी विशेषता यही है के ये भी अंहकार की भाव-भूमि पर ही उगी हैं । जरा गौर से देखिये , इनके पास कहने को बहुत कुछ हैं , ढेर सारी शिकायतें हैं इनकी अपने प्रतिपक्ष से। किंतु , अंहकारमूलक प्रतिक्रियाओं की विशेषता यह होती है के इनके पास कोई विश्व-दृष्टि नहीं होती। इन प्रतिक्रियाकारियों को अपने प्रतिपक्ष को ग़लत बताने में, उसपर दोषारोपण करने में इन्हें ब्रह्मानंद की अनुभूति होती है।
संतों की कही हुई बात है -
अंहकार के वर्चस्व के कारन ही स्व-पर का भेद बढ़ता है।

1 टिप्पणी:

rohit ने कहा…

hiiiiiiiiiiiiiiiii

you are fantastic!!!
you bolg is nice to see.
you known that india won gold medal.
REALLY GREAT NEWS FOR ME AND FOR MY COUNTRY "INDIA'S BINDRA WINS GOLD IN THE MEN'S 10m AIR RIFLE"
visit at new special pride edition only for indians.
really this is starting of good period.
http://fashionclutch.blogspot.com
comment on india pride if you are happy to do that.
i hope you will visit at my blogs.
come and give your comment on toady's gold medal.

bye
come on celebrate today.
take care
see you
i hope you will in touch